श्रवण कुमार


माता-पिता की सेवा का भाव सीखें श्रवण कुमार से


जो व्यक्ति अपने माता-पिता को प्रेम कर पाए, उसे ही मैं मनुष्य कहता हूं। गुरजिएफ नामक विद्वान का यह विचार यदि संपूर्णत: आचरण में आ जाए तो धरती को स्वर्ग बनते देर नहीं लगेगी। इस संदर्भ में श्रवणकुमार की पौराणिक कथा उल्लेखनीय है। 

श्रवणकुमार के माता-पिता अंधे थे। श्रवणकुमार अत्यंत श्रद्धापूर्वक उनकी सेवा करते थे। एक बार उनके माता-पिता की इच्छा तीर्थयात्रा करने की हुई। श्रवणकुमार ने कांवर बनाई और उसमें दोनों को बैठाकर कंधे पर उठाए हुए यात्रा करने लगे। एक दिन वे अयोध्या के समीप वन में पहुंचे। 

वहां रात्रि के समय माता-पिता को प्यास लगी। श्रवणकुमार पानी के लिए अपना तुंबा लेकर सरयू तट पर गए। उसी समय महाराज दशरथ भी वहां आखेट के लिए आए हुए थे। श्रवणकुमार ने जब पानी में अपना तुंबा डुबोया, दशरथ ने समझा कोई हिरन जल पी रहा है। उन्होंने शब्दभेदी बाण छोड़ दिया। बाण श्रवणकुमार को लगा। 

दशरथ को दुखी देख मरते हुए श्रवणकुमार ने कहा- मुझे अपनी मृत्यु का दुख नहीं, किंतु माता-पिता के लिए बहुत दुख है। आप उन्हें जाकर मेरी मृत्यु का समाचार सुना दें और जल पिलाकर उनकी प्यास शांत करें। दशरथ ने देखा कि श्रवण दिव्य रूप धारण कर विमान में बैठ स्वर्ग को जा रहे हैं। पुत्र का अग्नि संस्कार कर माता-पिता ने भी उसी चिता में अग्नि समाधि ली और उत्तम लोक को प्राप्त हुए। 

सार यह है कि माता-पिता की सेवा अपार पुण्य का सृजन करती है। इसलिए अपनी व्यस्त दिनचर्या में से कुछ समय माता-पिता के लिए अवश्य निकालें, जो अपना संपूर्ण जीवन हमारी खुशियों के लिए होम कर देते हैं।